Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

LOGO

रेल सुरक्षा बल
विजयवाड़ा मंडल
परिचय

विजयवाड़ा मंडल हावड़ा– चेन्‍नई तथा नई दिल्‍ली - चेन्‍नई ट्रंक मार्ग में स्थित है.  वर्ष 1956 में दक्षिण रेलवे के भाग के रूप में अस्तित्‍व में आया. 2 अक्‍तूबर 1966 से दक्षिण मध्‍य रेलवे में सम्मिलित हो गया.  दिनांक 1, अप्रैल 2003 से इसके कुछ अंश को गुंटूर मंडल की सृजन के लिए अलग किया गया.  भारतीय रेल प्रणाली में दक्षिण के ‘गेट वे’ के रूप में विजयवाड़ा मंडल महत्‍वपूर्ण लिंक के रूप में भूमिका निभाता है.  फिलहाल इस मंडल का क्षेत्राधिकार सात राजस्‍व जिलों जैसे विशाखपट्टणम, पूर्व गोदावरी, कृष्‍णा, गुंटूर, प्रकाशम और नेल्‍लूर जिसे श्री पोट्टि श्रीरामुलु नेल्‍लूर जिले के रूप में पुनः नामकरण किया गया है से होकर चलता है.  मंडल के पूर्वार्ध के जिले, बंगाल की खाड़ी के तट को जोड़ते हुए महत्‍वपूर्ण जीव नदियों जैसे पेन्‍नार (नेल्‍लूर के पास), कृष्‍णा नदी (विजयवाड़ा के पास) और गोदावरी (राजमंड्री के पास) से परिवेष्ठित हैं.  विजयवाड़ा रेलवे स्‍टेशन भारत के व्‍यस्‍ततम रेलवे स्‍टेशनों में से एक है.


श्री एस.आर.गांधी

वरिष्‍ठ मंडल सुरक्षा आयुक्‍त

विजयवाड़ा मंडल में अनकापल्‍ली, काकिनाडा पोर्ट, राजमंड्री, भीमवरम, एलूरु, विजयवाड़ा, अप-यार्ड, रायनपाडु, तेनाली, चीराला, ओंगोल और नेल्‍लूर स्‍टेशनों पर कुल 12 ओपन लाइन चौकी उपलब्‍ध हैं.


विजयवाड़ा मंडल में विशाखपट्टणम, तुनी, सामलकोट, काकिनाडा टाउन, राजमंड्री मेमू कार शेड, नरसापुर, निडदवोलु, तोडीपल्लिगूडेम, गुडिवाडा, विद्युत लोको शेड, ताडेपल्लि, बापट्ला, कावली, बिट्रगुंटा और गूडूर पर कुल 15 बाहरी चौकियां हैं.

क्षेत्राधिकार

विजयवाड़ा मंडल का क्षेत्राधिकार

Øकि.मी.सं.134.30 पर गूडूर (सहित) से कि.मी.सं.759.7 पर दुव्‍वाडा (को छोड़कर) तक

Øकि.मी.सं.586.5 पर विजयवाड़ा (मिलाकर) से कि.मी.सं.568 पर कोंडपल्‍ली (को मिलाकर) तक

Øकि.मी.सं.0.0 पर विजयवाड़ा (मिलाकर) से कि.मी.सं.42.69 पर गुडिवाडा (को मिलाकर) तक

Øकि.मी.सं.0.0 पर गुडिवाडा (को मिलाकर) से कि.मी.सं.36.70 पर मचिलीपट्टणम (को मिलाकर) तक

Øकि.मी.सं.0.0 पर भीमवरम (को मिलाकर) से कि.मी.सं.29.46 पर नरसापुर (को मिलाकर) तक

Øकि.मी.सं.0.0 पर विजयवाड़ा (मिलाकर) से कि.मी.सं.154.75 पर भीमवरम-निडदवोलु (ब्रांच लाइन) (को मिलाकर) तक

Øकि.मी.सं.0.0 पर सामलकोट (को मिलाकर) से कि.मी.सं.15.60 पर काकिनाडा (ब्रांच लाइन) तक

गाडि़यों में रेल सुरक्षा बल द्वारा सुरक्षा व्‍यवस्‍था

Øविजयवाड़ा मंडल पर रात के दौरान चलने वाली महत्‍वपूर्ण तथा सुभेद्य गाडि़यों में रेसुब के सशस्‍त्र कर्मियों को एस्‍कार्ट ड्यूटी के लिए प्रतिनियुक्‍त किया गया है.

Øगाडि़यों में यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए रेसुब गाड़ी एस्‍कार्ट पार्टियों को पूर्ण रूप में सुझाव दिए गए.

Øजीआरपी के साथ समन्‍वययन करते हुए रिपोर्ट किए गए अपराधों का पता लगाने के लिए विशेष दलों का गठन किया गया.   

Øएस्‍कार्ट पार्टियों के कार्य निष्‍पादन की जांच के लिए आकस्मिक जांच आयोजित किया गया हैं.

 स्‍टेशनों पर रेल सुरक्षा बल द्वारा सुरक्षा व्‍यवस्‍था

Øविजयवाड़ा मंडल के सभी महत्‍वपूर्ण बड़े स्‍टेशनों पर रेल सुरक्षा बल कर्मचारियों द्वारा मेटल डिटेक्‍टरों का उपयोग किया जा रहा है. 

Øरेड एलर्ट के दौरान विजयवाड़ा आर.एस. पर सशस्‍त्र गश्‍ती की जाती है.  

Øविजयवाड़ा आर.एस. पर बुलेट प्रूफ मोरचों की व्‍यवस्‍था की गई हैं.

Øदावा न किए वस्‍तुओं के संबंध में यात्रियों को सतर्क करने के लिए बार-बार उद्घोषणाएं की जाती है.  

Øजीआरपी/स्‍थानीय पुलिस के साथ निकट संबंध बनाये रखा जाता है.

मादकता पूर्वोपाय

Øमादकता के संबंध में यात्री जनता को सावधान करते हुए यात्री जानकारी अभियान आयोजित किए गए.

Øजन उद्घोषणा प्रणाली पर नियमित उद्घोषणाओं को सुनिश्चित किया गया. 

Øप्‍लेटफार्मों तथा प्रतीक्षालयों में टी.वी. में मादकता के बारे में वीडियो क्लिपिंग के प्रदर्शन सुनिश्चित किया गया.

Øचलती हुई गाडि़यों में कर्मचारियों तथा अधीनस्‍थ अधिकारियों को मादकता प्रवृत्ति के बारे में अधिसूचित किया गया.  

Øमहत्‍वपूर्ण तथा असुरक्षित गाडि़यों में डकैती संबंधी जांचों को आयोजित किया गया.  

Øचलती गाडि़यों में मादक अपराधियों का पता लगाने के लिए गाड़ी एस्‍कार्ट कर्मचारियों को सावधान किया गया.  

Øयात्रियों को जानकारी देने के लिए रे सु ब कर्मचारियों द्वारा मेगा फोनों का उपयोग किया जा रहा है.

Øजीआरपी के साथ समन्‍वयन करते हुए मादक गैंगों को पकड़ने के लिए  रेसुब कर्मचारियों को साधारण कपड़ों में परिनियोजित किया गया है.   





Source : दक्षिण मध्‍य रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 19-09-2018