Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

नागरिक चार्टर

रेलगाड़ियां तथा समय

यात्री सेवाएं / भाड़ा जानकारी

सार्वजनिक सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें

कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व
हैदराबाद मंडल
विजयवाड़ा मंडल
मुख्यालय
सिकंदराबाद डिवीजन
गुंटूर मंडल
नांदेड़ मंडल
गुंतकल मंडल
स्वच्छ रेल स्वच्छ भारत
मुख्यालय
हैदराबाद मंडल
सिकंदराबाद डिवीजन
गुंतकल मंडल
गुंटूर मंडल
नांदेड़ मंडल
विजयवाड़ा मंडल
प्रेस विज्ञप्ति
बिल स्थिति
आवेदन और बिल की स्थिति
महत्वपूर्ण सूचनाएं
परिणाम और अधिसूचना
सर्वेक्षण और निर्माण
रेलवे कर्मचारियों के लिए
विक्रेताओं के लिए पंजीकरण पालसी
अन्य जानकारियां
वेंडरों द्वारा अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:
डाउनलोड
प्रक्रिया और आवेदन पत्र
खेल कोटे के तहत नियुक्ति
स्काउट एवं गाइड कोटा के तहत नियुक्ति
Appointment under Scouts & Guides Quota
सांस्कृतिक कोटा के तहत नियुक्ति
चिकित्सा विभाग
विलंब शुल्क और घाट - भाड़ा की माफी
वाणिज्यिक शाखा
व्यय ठेके के लिए ठेकेदारों / आपूर्तिकर्ता / विक्रेताओं के पंजीकरण के लिए दिशानिर्देश एवं निर्देश
मुख्य चिकित्सा निदेशक कार्यालय, दक्षिण मध्य रेलवे, सिकंदराबाद में मेडिकल फार्मास्युटिकल कंपनियों का पंजीकरण
दक्षिण मध्य रेलवे के साथ स्वास्थ्य देखभाल के लिए निजी अस्पतालों का पंजीकरण
शिकायत दर्ज करें
गाड़ी दुर्घटना के बारे में जन सूचना
गाड़ी दुर्घटना जांच रिपोर्ट
गाड़ी दुर्घटना जांच रिपोर्ट
पुरानी सूचनाएं
 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
   

SOUTH CENTRAL RAILWAY
PRESS RELEASE
PUBLIC RELATIONS OFFICE, SECUNDERABAD - 500 071
No.68/2020-2104-05-2021
Secunderabad
ल मंत्रालय द्वारा माल भाड़े के ऑनलाइन भुगतान प्रणाली संबंधी दिशानिर्देश जारी किए जाने से व्यापार सुगमता को काफी बढ़ावा मिला

रे

येदिशानिर्देशदि.01.06.2021 सेलागूहोंगी.

एफबीडीके माध्यमसेऑनलाइनभुगतानप्रणाली 24x7 उपलब्धहोगी

ऑनलाइनभुगतानप्रणालीद्वारामालभाड़ाऔरसभीप्रकारकेसहायकशुल्कोंकीवसूलीकीसुविधामिलेगी

एसबीआईकेपे-मेंटगेटवेद्वाराफ्रैटबिजिनेसडेवलपमेंट (एफबीडी) पोर्टलपरयहऑनलाइनभुगतानउपलब्धहोगी.

ऑनलाइनभुगताननेटबैंकिंग/आरटीजीएस/एनईएफटी, क्रेडिटकार्ड/डेबिटकार्ड/ यूपीआईजैसेसभीमाध्यमोंमेंग्राहककेडैशबोर्डपरउपलब्धहोगी.

दिशा-निर्देशोंमेंमाललिपिकडैशबोर्ड, - पंजीकृतग्राहकडैशबोर्ड, ऑनलाइनधनवापसीप्रक्रिया, समाधानप्रक्रियाआदिकाप्रावधानभीशामिलहैं.

 

सूचना और संचार प्रौद्योगिकी में महत्वपूर्ण प्रगति ने अब वेब के माध्यम से ऑनलाइन भुगतान प्रणाली आरंभ करना संभव बना दिया है, इससे माल व सहायक प्रभार सहित सभी प्रकार के शुल्कों की भुगतान प्रक्रिया सरल, सुविधाजनक, त्वरित और पारदर्शी बन सकती है. ग्राहक संबंधी विभिन्न शुल्कों के भुगतान के लिए वेब पर एक विकल्प को सक्षम बनाते हुए इसे कर सकते हैं.

इसदिशामेंरेलमंत्रालयने30अप्रैल2021कोमालभाड़ाशुल्ककीऑनलाइनभुगतानप्रणालीसंबंधीदिशा-निर्देशजारीकीहै. एसबीआईकेपे-मेंटगेटवेद्वाराफ्रेटबिजनेसडेवलपमेंट (एफबीडी) पोर्टलकेमाध्यमसेयहऑनलाइनभुगतानप्रणालीउपलब्धहोगी. यहमालढुलाईऔरसभीप्रकारकेसहायकप्रभारजैसेप्रीमियमशुल्क (प्रीमियमइंडेंटकेमामलेमें), वैगनपंजीकरणशुल्क, स्थानशुल्क, विलंबशुल्क, ​​साइडिंगप्रभार, शंटिंग प्रभार, रीबुकिंगशुल्क, डायवर्जनशुल्कआदिकेभुगतानकीसुविधाप्रदानकरेगी, एफबीडीकेमाध्यमसेयहऑनलाइनभुगतानप्रणाली24x7उपलब्धहोगी. येदिशानिर्देशदि. 01.06.2021सेलागूहोंगी.

रेल मंत्रालय द्वारा मालभाड़ा शुल्क के ऑनलाइन भुगतान प्रणाली हेतु जारी दिशानिर्देशों की प्रमुख विशेषताएं निम्नानुसार हैं :

ऑनलाइन भुगतान प्रणाली:

lएसबीआईकेपे-मेंटगेटवेद्वाराफ्रैटबिजिनेसडेवलपमेंट (एफबीडी) पोर्टलपरयहऑनलाइनभुगतानउपलब्धहोगी.यहमालढुलाईऔरसभीप्रकारकेसहायकप्रभारजैसेप्रीमियमशुल्क (प्रीमियमइंडेंटकेमामलेमें), वैगनपंजीकरणशुल्क, स्थानशुल्क, विलंबशुल्क, ​​साइडिंगप्रभार, शंटिंग प्रभार, रीबुकिंगशुल्क, डायवर्जनशुल्कआदिकेभुगतानकीसुविधाप्रदानकरेगी.

lएफबीडीकेमाध्यमसेयहऑनलाइनभुगतानप्रणाली24x7उपलब्धहोगी.

lएफबीडी के माध्यम से ऑनलाइन भुगतान प्रणाली 24x7उपलब्ध होगी.

lग्राहक / सेकंडरी ग्राहक जो इल सुविधा का लाभ उठाना चाहता है, इसे मांग नीति के इलेक्ट्रॉनिक पंजीकरण (ई-आरडी) के तहत पंजीकरण के लिए निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार एफबीडी पोर्टल पर स्वयं को पंजीकृत करने की आवश्यकता है.

lपरेषक/ परेषिती को ग्राहक और एंडॉर्सी / हैंडलिंग एजेंट को सेकंडरी ग्राहक माना जाएगा. ई-आरडी में पहले से पंजीकृत ग्राहकों को इस के लिए फिर से पंजीकरण करने की आवश्यकता नहीं है.

lग्राहक अपने एंडॉर्सी / हैंडलिंग एजेंट को सेकंडरी ग्राहक के रूप में पंजीकृत कर सकता है और विभिन्न शुल्कों के नाम सूचित कर सकता है (जैसे फ्रेट, प्रीमियम इंडेंट के मामले में प्रीमियम शुल्क, वैगन पंजीकरण शुल्क, स्थान शुल्क, विलंब शुल्क, साइडिंग शुल्क, शंटिंग शुल्क आदि), ग्राहक की ओर से सेकंडरी ग्राहक द्वारा इनका भुगतान किया जाएगा. तथापि, वर्तमान दिशानिर्देशों के अनुसार, रेलवे बकायों के भुगतान का दायित्व ग्राहक (परेषक / परेषिती) पर होगी और सभी भुगतानों के लिए वह जिम्मेदार होगा.

lऑनलाइनभुगताननेटबैंकिंग/आरटीजीएस/एनईएफटी, क्रेडिटकार्ड/डेबिटकार्ड/ यूपीआईजैसेसभीमाध्यमोंमेंग्राहककेडैशबोर्डपरउपलब्धहोगी.

माल लिपिक डैश बोर्ड:

ई-पंजीकृत ग्राहकों के लिए:

lमाल लिपिक को एक डैशबोर्ड उपलब्ध की जाएगी. अपनी यूजर आईडी के साथ लॉग-इन करने पर, माल लिपिक सभी पंजीकृत ग्राहक और सेकंडरी ग्राहकों के विवरण उनके कोड और जीएसटीआईएन नंबर सहित देख सकेगा.

lडैशबोर्ड पर माल लिपिक एफओआईएस/ टीएमएस के माध्यम से गणना की गई माल भाड़ा शुल्क, प्रीमियम शुल्क (प्रीमियम इंडेंट के मामले में), वैगन पंजीकरण शुल्क देखेगा और ग्राहक के लिए साइडिंग शुल्क, शंटिंग शुल्क, स्थान शुल्क, विलंब शुल्क (यदि मैन्युअली गणना की गई हो तो), रीबुकिंग शुल्क, मार्ग परिवर्तन शुल्क आदि फीड करेगा.

lप्रणाली ग्राहक और सेकंडरी ग्राहक के प्रति लगाए जाने वाली शुल्क दिखाएगी (जिसके लिए उसे पंजीकृत किया गया और भुगतान करने के लिए ग्राहक द्वारा प्राधिकृत किया गया है).

lऑनलाइन भुगतान प्रणाली के माध्यम से भुगतान किए जाने के बाद, माल लिपिक के डैशबोर्ड पर वह प्रदर्शित होगा. भुगतान की पुष्टि करने के बाद, सिस्टम माल लिपिक डैशबोर्ड पर उस हेड के नीचे पेइड दिखाएगा और सिस्टम भुगतान के विवरण अद्यतन करेगा.

lभुगतान की पुष्टि होने के बाद माल लिपिक द्वारा रेलवे रसीद/धन रसीद/ जीएसटी इनवाइस, जैसा भी मामला हो, जेनरेट किया जा सकता है.

lऑनलाइन भुगतान पूरा हो जाने के बाद, माल लिपिक के रिकॉर्ड के लिए प्रत्येक भुगतान पर भुगतान पुष्टिकरण पर्ची प्रणाली द्वारा जेनरेट की जाएगी.

lसिस्टम में पीड किए गए विवरणों को तुलन पत्र में देख सकते हैं.

lयदि कोई ग्राहक या सेकंडरी ग्राहक ई-पंजीकृत होने के बावजूद, ड्राफ्ट/चेक/नकद के रूप में माल लिपिक को सीधे भुगतान करना चाहता है तो माल लिपिक भुगतान ले सकता है और डैश में उसी को पंच करने की सुविधा होगी और टर्मिनल पर ही भुगतान की प्राप्ति की सूचना मिलेगी. ऐसे मामलों में, वर्तमान दिशानिर्देशों के अनुसार माल लिपिक रेलवे रसीद/धन रसीद/जीएसटी इनवाइस जेनरेट कर सकता है.

गैर ई-पंजीकृत ग्राहकों के लिए :

lगैर-ई पंजीकृत ग्राहक के मामले में, माल लिपिक को ग्राहक का विवरण फीड करने और मांग दर्ज करते समय इंडेंट संख्या को पहचानने का विकल्प दिया जाएगा. तदनुसार, एफओआईएस/टीएमएस द्वारा वैगन पंजीकरण शुल्क, प्रीमियम इंडेंट के मामले में प्रीमियम शुल्क और फ्रेट शुल्क की गणना की जाएगी और माल लिपिक उस ग्राहक से संबंधित साइडिंग शुल्क, शंटिंग शुल्क, स्थान शुल्क, विलंब शुल्क (यदि मैन्युअली गणना की जाती है तो), बुकिंग शुल्क, मार्ग परिवर्तन शुल्क आदि को फीड करेगा. ऐसे मामलों में, वर्तमान दिशानिर्देशों के अनुसार माल लिपिक रेलवे रसीद/धन रसीद/जीएसटी इनवाइस जेनरेट कर सकता है.

lऊपर दिए गए और सिस्टम में पीड किए गए विवरणों को तुलन पत्र में देख सकते हैं.

ई-पंजीकृत ग्राहक का डैशबोर्ड :

lग्राहक/सेकंडरी ग्राहक को देय शुल्क के भुगतान के बारे में अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी पर एक संदेश प्राप्त होगा.

lवर्तमान दिशानिर्देशों के अनुसार रेलवे के बकायों का भुगतान किया जाएगा और विलंब शुल्क, यदि लागू हो तो, तदनुसार लगायी जाएगी.

lग्राहक/सेकंडरी ग्राहक अपनी यूजर आईडी और पासवर्ड द्वारा एफबीडी पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन भुगतान प्रणाली में लॉगइन करेगा.

lग्राहक/सेकंडरी ग्राहक पर लगाई गई शुल्क, जैसा भी मामला हो ग्राहक/ सेकंडरी ग्राहक के खाते में दिखाई देंगी.

lग्राहक सेकंडरी ग्राहक को सौंपी गई शुल्क सहित ऐसी सभी शुल्कों का भुगतान कर सकता है.

lसेकंडरी ग्राहक ऐसे शुल्क का भुगतान कर सकता है, जिसके लिए उसे ग्राहक द्वारा प्राधिकृत किया गया है.

lग्राहक को प्रत्येक हेड के तहत अलग-अलग रूप से शुल्क का चयन करने और भुगतान करने की अनुमति होगी. ग्राहक को प्रत्येक शुल्क का चयन करना होगा और भुगतान करने संबंधी विवरण दिए जाएंगे.

lसिस्टम उपलब्ध विभिन्न माध्यमों के जरिए ग्राहक को भुगतान के चयन और प्राधिकरण करने के लिए पे-मेंट गेटवे पेज पर भेजेगा.

lप्राधिकरण के बाद जब ग्राहक सफल भुगतान करता है, ग्राहक को भुगतान अप्लिकेशन पर वापस भेजा जाएगा और सिस्टम एफओआईएस/टीएमएस अप्लिकेशन पर भुगतान के विवरण अपडेट करेगा और तब ग्राहक दूसरे भुगतानों के लिए आगे बढ़ सकता है.

lसफल भुगतान करने के बाद, ग्राहक के डैशबोर्ड पर वह दिखाई देगा.

lसेकंडरी ग्राहक द्वारा सफल भुगतान किए जाने पर, ग्राहक के डैशबोर्ड पर भी वह भुगतान दिखाई देगा.

lवर्तमान दिशानिर्देशों के अनुसार रेलवे रसीद/ धन रसीद और संबंधित जीएसटी इनवाइस जेनरेट की जाएगी और अप्लिकेशन के साथ-साथ पंजीकृत ई-मेल पर पीडीएफ फाइल के रूप में ग्राहक के साथ उसे साझा किया जाएगा.

lग्राहक अपनी समस्याओं/मुद्दों को उजागर करने के लिए सिस्टम में प्रावधान है और समयबद्ध तरीके से जोनल रेलवे/सीआरआईएस/एफओआईएस द्वारा उनका समाधान किया जाएगा.

आपात स्थिति के मामले में :

lऐसी किसी आपात स्थिति में जहां सफल भुगतान करने और ग्राहक के बैंक खाते से पैसा कट जाने के बाद भी यदि एफओआईएस/टीएमएस में वसूली नहीं दिखाई देती है तो ग्राहक को पुनःभुगतान करने के लिए प्रयत्न करना होगा.

lपुनः प्रयत्न करने पर, सिस्टम आगे बढ़ने से पहले पे-मेंट गेटवे से पिछले लेनदेन की स्थिति की जांच करेगा.

lयदि पिछला लेन-देन सफल रहा, तो सिस्टम उक्त लेनदेन को सफल लेनदेन के रूप में पडेट करेगा और भुगतान के लिए आगे बढ़े बिना रेलवे रसीद/मनी रसीद/ जीएसटी इनवाइस जेनरेट किया जाएगा.

lपिछला लेनदेन सफल न होने पर, सिस्टम नए लेनदेन के लिए आगे बढ़ेगा.

lसमाधान के बाद, यदि एफओआईएस/टीएमएस प्रणाली में कोई लेनदेन विफल हो जाता और ग्राहक के खाते से पैसा कट जाता है तो सिस्टम अपने आप लेनदेन से संबंधित धनवापसी को संसाधित करेगी.

lयदि ग्राहक/सेकंडरी ग्राहक ऑनलाइन भुगतान प्रणाली द्वारा भुगतान नहीं कर सकता है या किसी आपात स्थिति में ऑनलाइन भुगतान प्रणाली द्वारा भुगतान करने की स्थिति में नहीं है/इच्छुक नहीं है, तो वह ड्राफ्ट/चेक/नकद, जैसा भी मामला हो, द्वारा टर्मिनल पर भुगतान कर सकता है.

ऑनलाइन धनवापसी की प्रक्रिया :

निम्नलिखित मामलों में ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से प्राप्त भुगतानों से बैंक द्वारा ऑनलाइन धनवापसी की जाएगी -

lडब्ल्यूआरएफ की धनवापसी : ऑनलाइन पर प्राप्त डब्ल्यूआरएफ की धनवापसी के लिए डब्ल्यूआरएफ धनवपसी नीति के अनुसार एफओआईएस एक धनवापसी फाइल जेनरेट करेगा और पार्टी को भुगतान करने के लिए उसे एसबीआई को भेजेगा (जैसा यूपीआई द्वारा बुक किए गए पीआरएस/यूटीएस टिकटों की धनवापसी की जाती है). इस धनवापसी सूची को संबंधित आरंभिक स्टेशन द्वारा धनवापसी वाउचर के रूप में माना जाता है. धनवापसी वाउचर बैलेंस शीट का हिस्सा होगा जिसे यातायात लेखा कार्यालय एफओआईएस में प्रस्तुत ऑनलाइन बैलेंस शीट के माध्यम से एक्सेस कर सकता है.

lपरिचालनिक कारणों से कम दूरी के लिए मार्ग परिवर्तन किए जाने पर माल भाड़े की धनवापसी: रेलवे द्वारा मार्ग परिवर्तन के कारण दूरी कम हो जाने पर जिस के लिए ऑनलाइन पर भुगतान किया गया हो, सुपरसेशन आरआर जेनरेट होने पर, एफओआईएस द्वारा धनवापसी की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. एफओआईएस धनवापसी फ़ाइल जेनरेट करेगा और पार्टी को भुगतान की व्यवस्था करने के लिए एसबीआई को भेजेगा (जैसा यूपीआई द्वारा बुक किए गए पीआरएस/यूटीएस टिकटों की धनवापसी की जाती है). इस धनवापसी सूची को संबंधित आरंभिक स्टेशन द्वारा धनवापसी वाउचर के रूप में माना जाता है. धनवापसी वाउचर बैलेंस शीट का हिस्सा होगा जिसे यातायात लेखा कार्यालय एफओआईएस में प्रस्तुत ऑनलाइन बैलेंस शीट के माध्यम से एक्सेस कर सकता है.

lस्थान शुल्क और विलंब शुल्क की धनवापसी : ऑनलाइन भुगतान प्रणाली के माध्यम से संग्रहित स्थान शुल्क और विलंब शुल्क की धनवापसी के लिए, माल लिपिक सक्षम प्राधिकारी द्वारा दी गई छूट के आधार पर एक भुगतान आदेश जेनरेट करेगा और एफओआईएस में प्राधिकरण विवरण अर्थात प्राधिकरण सं. और तारीख प्राप्त करेगा. भुगतान आदेश के आधार पर एफओआईएस एक धनवापसी फ़ाइल जेनरेट करेगा और पार्टी को भुगतान की व्यवस्था करने के लिए एसबीआई को भेजेगा (जैसा यूपीआई द्वारा बुक किए गए पीआरएस/यूटीएस टिकटों की धनवापसी की जाती है). इस धनवापसी सूची को संबंधित आरंभिक स्टेशन द्वारा धनवापसी वाउचर के रूप में माना जाता है. धनवापसी वाउचर बैलेंस शीट का हिस्सा होगा जिसे यातायात लेखा कार्यालय एफओआईएस में प्रस्तुत ऑनलाइन बैलेंस शीट के माध्यम से एक्सेस कर सकता है.

lसमाधान करने की प्रक्रिया :

lसिस्टम द्वारा अपने आप समाधान किया जाएगा.

lटी+1 पर अर्थात लेनदेन (वसूली और धनवापसी) के अगले दिन, पे-मेंट गेटवे प्रदाता, एफओआईएस/टीएमएस प्रणाली को एक रिपोर्ट देगा जिसमें सफल लेनदेनों की सूची होगी.

lपे-मेंट गेटवे प्रदाता से प्राप्त भुगतान निपटान सफल स्थिति रिपोर्ट के आधार पर, एफओआईएस/टीएमएस अप्लिकेशन में क्वेरी/रिपोर्ट के रूप में सफल लेनदेन की एक सूची जेनरेट करेगा.

lसमाधान के लिए एक अपवाद के रूप में क्वेरी/रिपोर्ट जेनरेट की जाएगी.

lसमाधान के बाद कोई विसंगति पाई जाती है तो, जैसे कि ग्राहक के खाते से डबल डेबिट या पेमेंट कट गया हो लेकिन एफओआईएस/टीएमएस सिस्टम में ठीक नहीं किया गया हो तो जोनल रेलवे उचित प्रक्रिया को अपनाते हुए ग्राहक को लेनदेन की राशि वापस करेगी.

कृपया ध्यान दें कि अब माल भाड़े की वसूली के लिए इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली उपलब्ध है, सभी प्रमुख और नियमित ग्राहक इसका उपयोग कर सकते हैं. हालांकि, कभी-कभार आने वाले ग्राहक पारंपरिक माध्यम से माल ढुलाई का भुगतान करते हैं. इसके अलावा, सहायक शुल्कों का भुगतान (जैसे वैगन पंजीकरण शुल्क, स्थान शुल्क, विलंब शुल्क, साइडिंग शुल्क, शंटिंग शुल्क आदि) पारंपरिक माध्यम से किया जाता है.

 

 





  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.