Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

नागरिक चार्टर

रेलगाड़ियां तथा समय

यात्री सेवाएं / भाड़ा जानकारी

सार्वजनिक सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें

कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व
हैदराबाद मंडल
विजयवाड़ा मंडल
मुख्यालय
सिकंदराबाद डिवीजन
गुंटूर मंडल
नांदेड़ मंडल
गुंतकल मंडल
स्वच्छ रेल स्वच्छ भारत
मुख्यालय
हैदराबाद मंडल
सिकंदराबाद डिवीजन
गुंतकल मंडल
गुंटूर मंडल
नांदेड़ मंडल
विजयवाड़ा मंडल
प्रेस विज्ञप्ति
बिल स्थिति
आवेदन और बिल की स्थिति
महत्वपूर्ण सूचनाएं
परिणाम और अधिसूचना
सर्वेक्षण और निर्माण
रेलवे कर्मचारियों के लिए
विक्रेताओं के लिए पंजीकरण पालसी
अन्य जानकारियां
वेंडरों द्वारा अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:
डाउनलोड
प्रक्रिया और आवेदन पत्र
खेल कोटे के तहत नियुक्ति
स्काउट एवं गाइड कोटा के तहत नियुक्ति
Appointment under Scouts & Guides Quota
सांस्कृतिक कोटा के तहत नियुक्ति
चिकित्सा विभाग
विलंब शुल्क और घाट - भाड़ा की माफी
वाणिज्यिक शाखा
व्यय ठेके के लिए ठेकेदारों / आपूर्तिकर्ता / विक्रेताओं के पंजीकरण के लिए दिशानिर्देश एवं निर्देश
मुख्य चिकित्सा निदेशक कार्यालय, दक्षिण मध्य रेलवे, सिकंदराबाद में मेडिकल फार्मास्युटिकल कंपनियों का पंजीकरण
दक्षिण मध्य रेलवे के साथ स्वास्थ्य देखभाल के लिए निजी अस्पतालों का पंजीकरण
शिकायत दर्ज करें
गाड़ी दुर्घटना के बारे में जन सूचना
गाड़ी दुर्घटना जांच रिपोर्ट
गाड़ी दुर्घटना जांच रिपोर्ट
पुरानी सूचनाएं
 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
   

SOUTH CENTRAL RAILWAY
PRESS RELEASE
PUBLIC RELATIONS OFFICE, SECUNDERABAD - 500 071
No.199/2020-2108-06-2021
Secunderabad
ऑक्सीजन एक्सप्रेस राष्ट्र को 26891 मीट्रिक टन से अधिक एलएमओ वितरित करती है

-383ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने पूरे देश में ऑक्सीजन की डिलीवरी पूरी की.

-ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने अब तक एलएमओ के 1567टैंकरों का परिवहन किया और 15राज्यों को राहत पहुंचाई

 

-ऑक्सीजन एक्सप्रेस द्वारा तमिलनाडु में 3500मीट्रिक टन से अधिक एलएमओ उतारा गए

 

-तमिलनाडु को 50 से ज्यादा ऑक्सीजन एक्सप्रेस प्राप्त हुई

 

-महाराष्ट्र में614 मीट्रिक टन ऑक्सीजन, उत्तर प्रदेश में लगभग 3797 मीट्रिक टन, मध्य प्रदेश में 656 मीट्रिक टन, दिल्ली में 5864 मीट्रिक टन, हरियाणा में 2212 मीट्रिक टन, राजस्थान में 98 मीट्रिक टन, कर्नाटक में 3214 मीट्रिक टन, उत्तराखंड में 320 मीट्रिक टन, तमिलनाडु में 3578 मीट्रिक टन, आंध्र प्रदेश में 2882 मीट्रिक टन, पंजाब में 225 मीट्रिक टन, केरल में 513 मीट्रिक टन, तेलंगाना में 2474 मीट्रिक टन, झारखंड में 38 मीट्रिक टन और असम में 400 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उतारी गई.

 

सभीबाधाओंकोपारकरतेहुएऔरनएसमाधानखोजतेहुए, भारतीयरेलदेशभरकेविभिन्नराज्योंमेंलिक्विडमेडिकलऑक्सीजन ( एलएमओ) पहुंचाकरराहतपहुंचानेकीअपनीयात्राजारीरखेहुएहै. ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने राष्ट्र की सेवा में 26000 मीट्रिक टन एलएमओ वितरण का आंकड़ा पार किया.

 

भारतीय रेल ने अब तकदेश भर के विभिन्न राज्यों में 1567 से अधिक टैंकरों में 26891 मीट्रिक टन से अधिक एलएमओ वितरित किया हैं. उल्लेखनीय है कि अब तक 383 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने अपनी यात्रा पूरी कर विभिन्न राज्यों को राहत पहुंचाई है. अब तक, 19 टैंकरों में 353 एमटी से अधिक एलएमओ के साथ 5 लोडेड ऑक्सीजन एक्सप्रेस चलाई जा रही हैं.

 

 अब तक, ऑक्सीजन एक्सप्रेस द्वारा दिल्ली में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) के कुल 306 टैंकर उतारे गए. ऑक्सीजन एक्सप्रेस द्वारा तमिलनाडु में 3500 मीट्रिक टन से अधिक एलएमओ उतार दिया गया. अब तक, तमिलनाडु को कुल 52 ऑक्सीजन एक्सप्रेस प्राप्त हुई हैं. ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने आंध्र प्रदेश और कर्नाटक राज्य में क्रमशः 2800 और 3200 मीट्रिक टन से अधिक लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) उतारी गई. गौरतलब है कि ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने 44 दिन पहले 24 अप्रैल को महाराष्ट्र में 126 मीट्रिक टन भार के साथ अपना वितरण आरंभ किया था.

 

यहभारतीयरेलकाप्रयासहैकिअनुरोधकर्ताराज्योंकोयथासंभवसमयमेंअधिकसेअधिकएलएमओवितरितकियाजाए. ऑक्सीजनएक्सप्रेसद्वाराऑक्सीजनराहत, उत्तराखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, आंध्रप्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, हरियाणा, तेलंगाना, पंजाब, केरल, दिल्ली, उत्तरप्रदेश, झारखंडऔरअसमजैसे15 राज्योंतकपहुंचाईगई.

 

 अब तक, महाराष्ट्र में 614 मीट्रिक टन, उत्तर प्रदेश में लगभग 3797 मीट्रिक टन, मध्य प्रदेश में 656 मीट्रिक टन, दिल्ली में 5864 मीट्रिक टन, हरियाणा में 2212 मीट्रिक टन, राजस्थान में 98 मीट्रिक टन, कर्नाटक में 3214 मीट्रिक टन, उत्तराखंड में 320 मीट्रिक टन, तमिलनाडु में 3578 मीट्रिक टन, आंध्र प्रदेश में 2882 मीट्रिक टन, पंजाब में 225 मीट्रिक टन, केरल में 513 मीट्रिक टन, तेलंगाना में 2474 मीट्रिक टन, झारखंड में 38 मीट्रिक टन और असम में 400 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उतारी जा चुकी है.

 

अबतकऑक्सीजनएक्सप्रेसनेदेशभरके15 राज्योंकेलगभग39 शहरों/कस्बोंमेंएलएमओकोउताराहै, जैसेउत्तरप्रदेशमेंलखनऊ, वाराणसी, कानपुर, बरेली, गोरखपुरऔरआगरा, मध्यप्रदेशमेंसागर, जबलपुर, कटनीऔरभोपाल, महाराष्ट्रमेंनागपुर, नासिक, पुणे, मुंबईऔरसोलापुर, तेलंगानामेंहैदराबाद, हरियाणामेंफरीदाबादऔरगुरुग्राम, दिल्लीमेंतुगलकाबाद, दिल्लीकैंटऔरओखला, राजस्थानमेंकोटाऔरकनकपारा, कर्नाटकमेंबेंगलुरु, उत्तराखंडमेंदेहरादून, आंध्रप्रदेशमेंनेल्लूर, गुंटूर, ताड़िपत्रीऔरविशाखपट्टनम,केरलमेंएर्नाकुलम, तमिलनाडुमेंतिरुवल्लूर, चेन्नै, तूतीकोरिन, कोयंबटूरऔरमदुरै, पंजाबमेंभटिंडाऔरफिल्लौर, असममेंकामरूपऔरझारखंडमेंरांची.

 

भारतीयरेलनेऑक्सीजनआपूर्तिस्थानोंकेसाथविभिन्नमार्गोंकीमैपिंगकीहैऔरराज्योंकीकिसीभीउभरतीआवश्यवताकेलिएखुदकोतैयाररखाहै. राज्योंद्वाराएलएमओलानेकेलिएभारतीयरेलकोटैंकरउपलब्धकराएजातेहैं.देशकोपारकरतेहुए, भारतीयरेलपश्चिममेंहापा, वड़ौदरा, मुंद्राऔरपूर्वमेंराउरकेला, दुर्गापुर, टाटानगर, अंगुलजैसेस्थानोंसेऑक्सीजनउठारहाहैऔरफिरइसेउत्तराखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, आंध्रप्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, हरियाणा, तेलंगाना, पंजाब, केरल, दिल्ली, उत्तरप्रदेशऔरअसमजैसेराज्योंमेंजटिलपरिचालनमार्गनियोजनपरिदृश्योंमेंवितरितकररहीहै.

 

यहसुनिश्चितकरनेकेलिएकिऑक्सीजनराहतयथासंभवत्वरितसमयमेंपहुंचे, रेलवेऑक्सीजनएक्सप्रेसमालगाड़ियोंकेसंचालनमेंनएमानकऔरअभूतपूर्वबेंचमार्कबनारहाहै.इनमहत्वपूर्णमालगाड़ियोंकीऔसतगतिलंबीदूरीपरज्यादातरमामलोंमें55 सेऊपरहै. उच्चप्राथमिकतावालेग्रीनकॉरिडोरपरचलरहेहैं, उच्चतमअत्यावश्यकताकेसाथ, विभिन्नक्षेत्रोंकीपरिचालनटीमेंसबसेचुनौतीपूर्णपरिस्थितियोंमेंचौबीसोंघंटेकामकररहीहैंताकियहसुनिश्चितहोसकेकिऑक्सीजनसंभवसमयसीमामेंपहुंचे. विभिन्नसेक्शनोंमेंकर्मीदलपरिवर्तनकेलिएतकनीकीस्टापेजकोघटाकर1 मिनटकरदियागयाहै.

 

 

रेलपथखालीरखेजातेहैऔरऑक्सीजनएक्सप्रेसकेनिरंतरआगेबढ़तेरहनेकोसुनिश्चितकरनेकेलिएउच्चसतर्कताबरतीजारहीहै.यहसबइसतरहसेकियाजाताहैकिअन्यमालढुलाईपरिचालननकीगतिभीकमहोनेपाए.नईऑक्सीजनकाचलनाएकबहुतहीगतिशीलअभ्यासहैऔरआंकड़ेहरसमयअपडेटहोतेरहतेहैं. ऑक्सीजनसेभरीहुईकईऔरएक्सप्रेसगाड़ियाअपनीयात्रादेररातमेंआरंभकरेंगी.

 





  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.