Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

नागरिक चार्टर

रेलगाड़ियां तथा समय

यात्री सेवाएं / भाड़ा जानकारी

सार्वजनिक सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
विद्युत कर्षण वितरण

विद्यु कर्षण


विजयवाडा – गूडूर सेक्शन में,वर्ष 1980 के दौरान विजयवाड़ा मंडल ने विद्युत कर्षण प्रारंभ कियातत्पश्चात  विजयवाड़ा- बल्लारशाह मार्ग विद्युतीकरण के अंतर्गत  मार्च 1986 में विजयवाड़ा-रायनपाडु सेक्शन को ऊर्जित किया गया. 

विजयवाड़ा (को छोड़कर)- विशाखपट्टणम (को जोड़कर) सेक्शन का विद्युतीकरण कार्य मई 1994 में शुरू किया गया और मार्च 1997 में पूरा किया गया. उसके बाद कृष्णा केनाल – गुंटूर- नल्लपाडु और तेनाली –गुंटूर सेक्शन को गुंटूर मंडल को सौंप दिया गया. वर्ष 2006 के दौरान परिचालन की सुविधा के लिए सिकंदराबाद मंडल से रायनपाडु- कोंडपल्ली सेक्शन 

को इस मंडल में जोड़ दिया गया. अब इस मंडल का कुल विद्युतीकृत सेक्शन 733 कि.मी और 1928 ट्रैक कि.मी के रूप में विस्तृत हो गया. विद्युत कर्षण के लिए, 25 के.वी. सिंगल फेज़ विद्युत आपूर्ति मार्गस्थ स्थित 14 कर्षण उप केंद्रों से प्राप्त की जाती है और पूर्व आंध्रप्रदेश राज्य विद्युत बोर्ड जो     सम्प्रति ए.पी.ट्रांस्को है – इन सभी कर्षण उप केंद्रों को अपने ग्रिड से 132 के.वी  विद्युत की आपूर्ति करती है.

इस मंडल के  98.5 %  माल यातायात और  89.6 %  यात्री  यातायात  का परिवहन विद्युत कर्षण वहन द्वारा किया जा रहा है.

 

विद्युत कर्षण के लिए 

 प्रति माह औसतन 57.0 मिलियन यूनिट विद्युत की खपत हो रही है और 38 करोड़ (लगभग) खर्च हो रहा है.

कार्यकलाप:   विजयवाड़ा मंडल के ऊपरी उपस्कर उपकरण एवं विद्युत आपूर्ति संस्थापनों का अनुरक्षण.गा

ड़ियों के संचलन के लिए, कर्षण सेवाओं के हेतु बाधा रहित विद्युत  आपूर्ति सुनिश्चित करना.

प्रमुख विशिष्टताएँ

 

 

विद्युतीकृत ट्रैक किलोमीटर

1928

विद्युतीकृत रूट किलोमीटर

733

मंडल का  विद्युतीकरण % (रूट कि.मी)

76.75

 

 

इस मंडल के 98.5 %  माल यातायात और 89.6 %  यात्री यातायात का परिवहन विद्युत कर्षण द्वारा किया जा रहा है.

 

1.

कर्षण उप – स्टेशन

14

2.

सेक्शनिंग एवं पैरलिंग पोस्ट

15

3.

उप सेक्शनिंग एवं पैरलिंग पोस्ट

29

4.

पर्यवेक्षी दूरस्थ नियंत्रण

1

5.

दूरस्थ नियंत्रण

1

6.

ऊपरी उपस्कर डिपो

14

7.

पी एस आई डिपो

13

संगठन

वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर/कर्षण वितरण/विजयवाड़ा-     श्री के.नागेंद्र प्रसाद

सहायक मंडल विद्युत इंजीनियर/कर्षण वितरण/नेल्लूर             -     श्री टी.सुरेश

सहायक मंडल विद्युत इंजीनियर/कर्षण वितरण/बापट्ला         -     श्री के.किरण कुमार

सहायक मंडल विद्युत इंजीनियर/कर्षण वितरण/राजमंड्री       -     श्री के.श्रीनिबाश

सहायक मंडल विद्युत इंजीनियर/कर्षण वितरण/तुनी         -     श्री जी.रत्नम 

सेट अप

 



वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर (कर्षण वितरण)की ड्यूटियां:

वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर (कर्षण वितरण) मंडल में कर्षण वितरण सेक्शन के आसन्न प्रभारी हैं. जो, पावर आपूर्ति संस्थापनों , ऊपरी उपस्कर और  आर सी उपकरणों के प्रभावी अनुरक्षण और प्रचालन संबंधी सभी तकनीकी एवं संगठनात्मक मामलों के जिम्मेदार हैं.

सहायक मंडल विद्युत इंजीनियर(कर्षण वितरण) की ड्यूटियाः-:

सहायक मंडल विद्युत इंजीनियर(कर्षण वितरण) अपने अधिकार क्षेत्र सभी पावर आपूर्ति संस्थापनों , ऊपरी उपस्कर उपकरणों (ओ एच ई) और आर सी उपकरणों के अनुरक्षण, प्रचालन एवं संरक्षा के आसन्न प्रभारी हैं और इन से संबंधित सभी मामलों के लिए वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर (कर्षण वितरण) के प्रति उत्तरदायी हैं.


पावर :

शक्तियों की अनुसूची , दक्षिण मध्य रेलवे, को निम्नलिखित पर देखा जा सकता है.

Schedule of Powers, South Central Railway ,which can be accessed at

 http://203.153.33.93:7070/SOP/index.html

मैन्युअल :

वैकल्पिक चालू कर्षण मैन्युअलl (एसीटीएम), को निम्नलिखित पर देखा जा सकता है.

which can be accessed at

 http://www.indianrailways.gov.in/railwayboard/uploads/codesmanual/ACTraction-II-P-II/AcTractionII_index.htm

 http://www.indianrailways.gov.in/railwayboard/uploads/codesmanual/ACTraction-I/AcTractionICh2.htm

 http://www.indianrailways.gov.in/railwayboard/uploads/codesmanual/ACTraction-II-P-I/ACTractionIIVolI_index.htm


शुल्क : `6.68 /यूनिट(01.04.2015 से लागू). केवीएएच में बिलिंग

2015-16 के लिए लक्ष्य

1.संरक्षा  संबंधी

 

क्रम.सं

मद

यूनिट

कार्य की प्रमात्रा

1

मेइन लाइन पर कर्व में क्रिटिकल इम्प्लान्टेशन लोकेशन पर ध्यान देना

संख्या

23

2

झुके हुए मास्टों की ओर ध्यान देना

संख्या

83

 

 

2.विश्वसनीयता संबंधीः

क्रम.सं

मद

यूनिट

कार्य का प्रमात्रा

1

कर्षण वितरण खराबियां

संख्या

3

अधिकतम

2

ए बी टी मीटरों का प्रावधान Provision of ABT meters

संख्या

14

3

बर्रिड रेल सहित अर्थिंग स्टेशनों का प्रावधान

संख्या

44

4

एल ए के लिए सर्ज मोनिटर का प्रावधान

Provision of surge monitors to LAs

संख्या

202

5

25 कि.वा. एल ए के लिए डिस डिस-कनेक्टर असेंब्ली का प्रावधान

संख्या

287

6

चिनगंजाम सेक्शन में खराब कैटनरी वायर को बदलना

टी/एल

47

7

रेणिगुंटा/एस पी के एम एच आई एल साइडिंग के लिए बीएम द्वारा आईसोलेशन की व्यवस्था

संख्या

1

8

वेंकटाचलम एवं सामलकोट के भारतीय खाद्य निगम साइडिंग के लिए वाहनसहित व्यवस्था.

संख्या

2

 





Source : दक्षिण मध्‍य रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 22-02-2019  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.