Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

नागरिक चार्टर

रेलगाड़ियां तथा समय

यात्री सेवाएं / भाड़ा जानकारी

सार्वजनिक सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
इस कारखाने के बारे में

माल डिब्बा कारखाना,

गुंटुपल्ली, विजयवाड़ा में आपका स्वागत  

मालडिब्बा कारखाने का विहंगम दृश्य




1.0   संक्षिप्त इतिहासः







इस मरम्मत कारखाना के लिए रेल मंत्रालय द्वारा वर्ष 1973 में प्रति वर्ष 10,000 एफ डब्ल्यू इकाइयों की मरम्मत के लिए बुनियादी ढांचे के साथ 26 करोड रुपए की अनुमानित लागत पर मंजूरी दी गई थी.   दिनांक  07.04.1974 तत्कालीन भारत के प्रधानमंत्री स्वर्गीया श्रीमती इंदिरा  गाँधी जी द्वारा शिलान्यास किया गया था और दक्षिण मध्य रेलवे में यातायात उपयोग के लिए मालडिब्बों को फिट रखने की सुविधा प्रदान करने हेतु दिनांक 16-07-1976 को श्री के.एस.राजन, महाप्रबंधक द्वारा उद्घाटन किया गयाथा.



यह कारखाना, प्रधाना कारखानों में से एक है और भारतीय रेलवे की पहली आधुनिक कारखाना है जिसने बड़ी लाइनवाले मालडिब्बों के विभिन्न वर्गों की मरम्मत की योजना बनाई है. वार्षिक उत्पादन क्षमता लगभग 5,280 वाहन इकाइयाँ हैं. 


यह कारखाना ऐतिहासिक शहर विजयवाड़ा से 12 किलो मीटर की परिधि में स्थित है, जो पवित्र कृष्णा नदी के तट पर स्थित है, जो कोंडापल्ली किले, उंडवल्ली गुफाओं और अक्कन्ना मादन्ना गुफाओं, अमरावती आदि जैसे प्रमुख ऐतिहासिक स्थानों से घिरा हुआ है.


2.  मुख्य विशेषताएं:

1

अधिग्रहित भूमि का कुल क्षेत्र

244 हेक्टेर

2

कारखाने का कुल क्षेत्र

120 हेक्टेर

3

कॉलोनी में सभी सुविधाओं तथा भविष्य में विस्तार सहित कुल क्षेत्र

124 हेक्टेर

4

कारखाने का कुल कवर किया गया क्षेत्र

5.4 हेक्टेर

5

अन्य भवनों का कवर  किया  गया क्षेत्र (प्रशासनिक कार्यालय, यातायात शेड, अस्पताल, इंस्टिट्यूट, भंडार आदि)

1.8 हेक्टेर

6

कारखाने के अंदर ट्रैक की  लंबाई

32 कि.मी.

7

प्वाइंट और क्रासिंग 

69 नग.

8

01.10.2015 को स्वीकृत कर्मचारियों की संख्या

2,807

9

कर्मचारियों के लिए आवासीय व्यवस्था

578

10

परियोजना की कुल लागत

26.00 करोड (लगभग)

11

पानी की अधिकतम आवश्यकता

1,400 कि.ली/प्रतिदिन

12

आवश्यक प्राक्कलित अधिकतम विद्युत –            कारखाने के लिए

1,600 के वी ए

कॉलोनी

350 के वी ए

13

मशीन व संयंत्र 

511

3. मुख्य गतिविधियां:

इस कारखाने की मुख्य गतिविधि यह है कि कच्चे माल जैसे लौह अयस्क, मैंगनीज, ईंधन जैसे कोयला, पेट्रोलियम उत्पाद, तैयार हुए उत्पाद जैसे लौह,  इस्पात,खाद्य पदार्थों के अलावा विभिन्न सामग्रियों के परिवहन हेतु उपयोग किए जाने वाले माल डिब्बों की आवधिक ओवरहॉलिंग है.

परिवहन के दौरान आवश्यक सुरक्षा के अनुसार, सामग्री के आकार और प्रकृति के आधार पर, विभिन्न प्रकार की सामग्री के परिवहन के लिए विभिन्न प्रकार के डिब्बों का उपयोग किया जाता है. 

इस कारखाने में मरम्मत किए जानेवाले कुछ विशेष प्रकार के  माल डिब्बे नीचे दिए जाते हैं:

कच्चे माल आदि के लिए खुले डिब्बों (टी ओ पी) का उपयोग किया जाता है.      (BOXN, BOXC आदि)

खाद्य पदार्थ, सीमेंट आदि के लिए बंद डिब्बों का उपयोग किया जाता है. (BCN, BCX आदि)

लौह, स्टील उत्पाद, कंटेनरों के लिए फ्लैट वैगनों का उपयोग किया जाता है. (BRN, BFKN आदि)

पेट्रोलियम उत्पाद, नैप्था, अमोनिया, फास्परस आदि के परिवहन के लिए टैंकरों का उपयोग किया जाता है. (BTPN, BTPH आदि)

कोयला तथा लौह अयस्क के लिए रैपिड बॉटम डिस्चार्ज सिस्टम युक्त खुले वैगनों का उपयोग किया जाता है.  (BOBR आदि)

रेलवे ट्रैक पर गिट्टी की उतराई के लिए साइड (नियंत्रित) डिस्चार्ज वाले खुले वैगनों का उपयोग किया जाता है. (BOBY आदि.)


4. कार्यनिष्पादन सूचियां

हमारे कारखाने में निर्धारित लक्ष्यों को लगातार प्राप्त करने और यहां तक कि कई अवसरों पर रेलवे बोर्ड द्वारा निर्धारित लक्ष्यों को पार करने का एक उल्लेखनीय रिकॉर्ड है - विवरण स्वत: स्पष्ट हैं











5.मानव संसाधन विकास: 

इस कारखाने द्वारा वर्षानुवर्ष सर्वोत्कृष्ट कार्य निष्पादन दर्शाने में मानव संसाधन की भूमिका अत्यंत प्रमुख है. 

कारखानें के साथ संबध्द प्रशिक्षण केंद्र में कर्मचारियों को अपने ज्ञान एवं निपुणता को बढाने के लिए आवधिक प्रशिक्षण दिया जा रहा है.

कर्मचारियों के सहयोग से केवल  उत्पादन बढना ही नहीं बल्कि कारखाने का सर्वागींण कार्य निष्पादन में विकास हुआ है.



कर्मचारियों को अपने कामकाज के अलावा अन्य क्रिया-कलाप जैसै नागरिक सुरक्षा, स्कॉउट, सेंट जॉन अम्बुलेन्स आदि सेवा कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है.

कर्मचारियों के स्वास्थ्य को बनाए  रखने के लिए नियमित रूप से विशेष स्वास्थ्य परीक्षा और प्रतिरक्षण आदि किया जा रहा है.


6. पर्यावरण के प्रति सावधानी:

विजयवाडा शहर के निकट स्थित किसी भी औद्योगिक इकाई या संस्थान में स्थित कुल हरियाली क्षेत्र की तुलना में हमारा कारखाना सर्वोच्च स्तर पर है. यहाँ के परिसरों की साफ-सफाई सुनिश्चित करने हेतु अधिकारी और कर्मचारी नियमित रूप से स्वच्छ भारत कार्यक्रम में भाग लेते है.

रमणीय उद्यानों का रख-ऱखाव अपने आप में निहित है.

7.  कल्याण गतिविधियां

कारखाना अधिनियम के अंतर्गत अनिवार्य कल्याण गतिविधियाँ जैसै कर्मचारियों के लाभार्थ उदारीकृत कैंटीन,प्रथमोपचार केंद्र, महिलाओं और पुरूषों के लिए अलग-अलग विश्राम कक्ष, शिशु संरक्षण केंद्र,  धुलाई सुविधाएं, प्रसाधन,पीने के पानी आदि सुविधाओं को उपलब्ध कराया गया है.

अलावा इनके, इस कारखाने के साथ संबंद्ध टॉउनशिप में कर्मचारियों के रहने के लिए आवास,छात्रों के लिए स्कूल, पीने का पानी,मनोरंजन केंद्र, सुविधायुक्त अस्पताल,सहकारिता भंडार, एटीएम सहित भारतीय स्टेट बैंक की शाखा आदि सुविधाएं भी उपलब्ध है.

कर्मचारी कैंटीन

जल शुद्दिकरण संयंत्र

केंद्रीय विद्यालय

कॉलानी में एलपीजी गैस एजेंसी

कर्मचारियों के लिए रेलवे इंस्टिट्यूट

कर्मचारी सूचना किलोस्क

रेलवे क्वार्टर

रेलवे अस्पताल

शॉपों में प्रथ्मोपचार केंद्र

8. पुस्कार एवं प्रशस्ति:

सन 1976 में जबसे मालडिब्बों का उत्पादन शुरू हुआ तब से लगातार इस कारखानें को कई पुस्कार और प्रशस्ति पत्र हुआ रेलवे बोर्ड द्वारा अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित प्रतियोगता में इस कारखाने द्वारा निर्मित मैत्रीपूर्ण गार्ड ब्रेक वैन को पुस्कार से सम्मानित किया गया.



 

          




Source : दक्षिण मध्‍य रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 22-02-2021  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.