Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

नागरिक चार्टर

रेलगाड़ियां तथा समय

यात्री सेवाएं / भाड़ा जानकारी

सार्वजनिक सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें

सवारी डिब्बा कारखाना, लालागुडा
मॉल डिब्बा कारखाना गुंटूपल्ली
डीजल लोको शेड मौलाली
सवारी डिब्बा मरम्मत कारखाना / तिरुपति
डीजल लोको शेड गुंतकल
डीजल लोको शेड गूटी
डीजल लोको शेड विजयवाड़ा
इलेक्ट्रिक लोको शेड काजीपेट
इलेक्ट्रिक लोको शेड लालागुडा
एमु कार शेड मौला-अली
MEMU Car Shed RJY
सिगनल व दूरसंचार कारखाना
इंजीनियरिंग कार्यशाला लालागुडा


 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
डीजल लोको शेड काजीपेट

1.0परिचय

100 लोको के अनुरक्षण के लिए डीज़ल शेड काजीपेट की स्थापना की गई तथा पूर्व महाप्रबंधक/दक्षिण मध्य रेलवे श्री पी.एन.कौल द्वारा 21.04.2016 को 20 लोको बर्थिंग क्षमता के साथ शेड को आरंभ किया गया.

2015-16के दौरान लोको संख्या को 100 से 150 तक बढ़ाने हेतु शेड का विस्तारण करने के लिए 28.15 करोड़ रु की स्वीकृत लागत पर प्रस्ताव को स्वीकार किया गया.

इसके अलावा, रेलवे बोर्ड के अनुदेशों के अनुसार पीडब्ल्यूपी 2016-17 के अंतर्गत 27.52 करोड़ रु लागत पर  शेड क्षमता को 150-250लोको तक बढ़ाने  के प्रस्ताव प्रस्तुत की गई.  

वर्तमान लोको होल्डिंग विवरण

लोको होल्डिंग

178

डब्ल्यूडीजी3A

53

डब्ल्यूडीएम3A 

38

डब्ल्यूडीजी4 (अक्तूबर-12 में होमिंग आरंभ हुई)

59

डब्ल्यूडीएम4D (जुलाई-15 में होमिंग आरंभ हुई)

14

डब्ल्यूडीजी2 पुराने

(पुराने लोको का विशेषरूप से विभागीय सेवाओं के लिए उपयोग किया जा रहा है.)

14

उपयोगिता

कुल लोको होल्डिंग

178

गुड्स

113

कोचिंग

51

अन्य सेवाएं

14


औसत लोको होल्डिंग

30.06.2017 तक डीज़ल लोको शेड/ काजीपेट में पिछले पांच वर्षों की लोको होल्डिंग निम्नप्रकार है

वर्ष

2011/12

2012/13

2013-14

2014-15

2015-16

जून 2016-17 तक

पिछले लोको होल्डिंग

145

140

148

150

167

178

काजीपेट डीज़ल शेड 93.6 लोको निर्धारित गुड्स आउटेज के अलावा प्रति दिन 51 यात्री लिंक लोको तथा अन्य विभागीय सेवाओं के लिए 14 कम क्षमतावाले लोको की व्यवस्था करता है.

.

2.0. संगठन

वरिष्ठ मंडल यांत्रिक इंजीनियर (डीज़ल) शेड का प्रमुख हैं तथा 04 राजपत्रित अधिकारी उनकी सहायता करते हैं. ये अधिकारी 698 गैर-राजपत्रित कर्मचारियों के समर्पित टीम का नेतृत्व करते हैं, जो भारतीय रेलों पर बड़ी लाइन पहियों को चलाने में मदद करते हैं. डीज़ल शेड/काजीपेट में तैनात अधिकारियों का विवरण निम्नानुसार है:-

क्र.सं

नाम सर्वश्री

पदनाम

कब से

01

लच्चीराम भूक्या

वरि.मंयांजी/डीज़ल/काजीपेट

16-09-2013

02

एम.रवि किरण

मंयांजी/डीज़ल/काजीपेट

17-11-2014

03

दिनेश कुमार गोयल

समंयांजी/डीज़ल/काजीपेट

20-06-2014

04

के.वेंकट रमणा

समंयांजी/डीज़ल/काजीपेट

01-03-2016

05

के.रामनजी

वरिसाप्र/डीज़ल/काजीपेट

07-09-2012

पिछले 03 वर्षों में संवर्ग का विवरण:

2011-12

2012-13

2013 -14

2014-15

2015-16

2016-17

जून तक

मापदंड के अनुसार आवश्यक कर्मचारी

लोको होल्डिंग

145

140

148

150

167

178

178

वास्तविक कर्मचारी

649

629

636

667

789

769

879

श्रम शक्ति/ लोको

4.47

4.49

4.29

4.44

4.72

   4.32 (भारे औसत 4.94)

4.94

3.0 कार्यनिष्पादन

           

आउटेज:

क्र.सं

वर्ष

औसत लक्ष्य

वास्तविक

 % में अंतर

01

2012/13

70.07

79.38

13.29

02

2013/14

71.63

78.68

9.86

03

2014/15

72.37

77.85

7.34

04

2015/16

83.28

90.72

9.00

05

2016/17 जून तक

93.60

98.51

6.55


2014/16 & 2015/17 की तुलना में निष्क्रियता प्रतिशत

क्र.सं

वर्ष

औसत लक्ष्य

वास्तविक

अंतर

01

2014/15

8.40

7.19

1.31

02

2015/16

8.40

6.54

1.56

03

2016/17 जून तक

6.66

5.55

1.11



लोको खराबी

खराबियां/100 लोको होल्डिंग /माह (वर्ष वार)

क्र.सं

वर्ष

सांख्यकीय खराबियां/ 100 लोको होल्डिंग

कुल खराबियां (S+NS)/100 लोको होल्डिंग

01

2012/13

3.03

3.79

02

2013/14

2.63

2.91

03

2014/15

2.67

2.94

04

2015/16

2.20

2.70

05

2016-17 जून’16  तक

2.28

2.81

           




·कर्मचारी हेल्थ केर:

-कर्मचारी तथा उनके परिवार जनों के  स्वास्थ्य की देखभाल के लिए डीज़ल कॉलनी स्वास्थ्य यूनिट की स्थापना की गई.

-कर्मचारियों के लिए वर्ष में एक बार कार्पोरेट अस्पतालों द्वारा आवधिक स्वास्थ्य जांच शिविरों का आयोजन किया जा रहा है.

-डीज़ल शेड के कर्मचारियों के लिए दिनांक 12-05-2016 से 19-05-2016 तक उप-मंडलीय रेलवे अस्पताल, काजीपेट द्वारा तथा दि.26.05.2016 को मैक्सकेर अस्पताल, हनुमकोंडा द्वारा मेगा हेल्थ कैंप का आयोजन किया गया.


·5 सूत्रीय सिद्धांत को लागू करना

Øअलग करना/आयोजन

Øव्यवस्था

Øसाफ-सफाई

Øमानदंडों का पालन

Øअनुशासन


आपदा प्रबंधनअग्नि शामन योजना


विभिन्न स्थानों पर आग संरक्षा पूर्वोपाय प्रदर्शन बोर्डों की व्यवस्था की गई है.

5.0 मील के पत्थर / उपलब्धियां

nपिछले 09 वर्षों में लोको के कारण कोई दुर्घटना नहीं हुई

nपिछले 09 वर्षों में लोको पर आग लगने की कोई दुर्घटना नहीं हुई

nकार्य स्थल पर कोई कर्मचारी हताहत नहीं हए.

nवर्ष 2007, 2012 & 2014 के लिए सर्वश्रेष्ठ दक्षता शील्ड पुरस्कार प्राप्त हुआ.


nवर्ष 2014 के लिए सर्वश्रेष्ठ दक्षता शील्ड पुरस्कार प्राप्त हुआ.

6.0 डीज़ल कर्षण प्रशिक्षण केंद्र

रनिंग कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने के लिए डीज़ल लोको शेड में एक प्रशिक्षण केंद्र उपलब्ध है.

Øपाठ्यक्रम:

Øलोको पायलट तथा अनुरक्षण कर्मचारियों के लिए पुनश्चर्या पाठ्यक्रम

Øअनुरक्षण कर्मचारियों के लिए आरंभिक पाठ्यक्रम, पदोन्नति पूर्व पाठ्यक्रम.

Øअवसंरचना:

Øशिक्षण सामग्री के साथ एक क्लास रूम की व्यवस्था है.

डीटीटीसी छात्रावास/ काजीपेट


  • छात्रावास में 20 कमरे उपलब्ध हैं. खाना पकाना सहित छात्रावास अनुरक्षण कार्य को आउट सोर्सिंग किया गया.
  • 2011-12 के दौरान 1.89 करोड़ रु. के मूल्य पर एलडब्ल्यूपी 149 के अंतर्गत विस्तारण कार्य को स्वीकृति दी गई. छात्रावास भवन की तीसरी मंजिल पर 9 अतिरिक्त कमरे बनाने का काम चल रहा है तथा अगस्त 2016 के अंत तक पूरा हो जाएगा.

7.0शेड की संरक्षा कार्य योजना

Øलोको की संरक्षा

Øकार्य स्थल पर संरक्षा

Øमशीनरी एवं संयंत्र की संरक्षा

लोको की संरक्षा

-समय-समय पर विभिन्न अभियान चलाकर लोको की संरक्षा को सुनिश्चित किया जा रहा है.

-संरक्षा रजिस्टरों का रख-रखाव

-विभिन्न स्तरों पर अधिकारी एवं पर्यवेक्षकों द्वारा नियमित विशेष जांच

कार्य स्थल पर संरक्षा

संरक्षा टीम द्वारा माह में एक बार संरक्षा जागरूकता बैठकों का आयोजन किया जा रहा है तथा इससे संबंधित संरक्षा प्रदर्शन बोर्डों को तैयार किया गया है तथा कार्य स्थल पर विभिन्न स्थानों में प्रदर्शित किया जा रहा है.   

प्रति वर्ष ड्यूटी पर घायल होने की मामलें, माह वार : इस संबंध में उठाए गए विभिन्न कदमों के कारण काजीपेट शेड में ड्यूटी पर घायल होने की मामलें प्रति वर्ष कम होती जा रही हैं. ड्यूटी पर घाटल होने के मामलों का वर्ष-वार विवरण नीचे दिया गया है.

क्र.सं

वर्ष

आईओडी की मामले

कर्मचारियों की संख्या

आईओडी मामले/100 कर्मचारी

1

2013-14

13

636

2.04

2

2014-15

20

667

3.00

3

2015-16

12

712

1.22

4

2016-17

जून तक

3

775

0.38



मशीनरी एवं संयंत्र की संरक्षा

Øबड़े मशीनरी एवं संयंत्रों के अनुरक्षण के लिए प्रत्येक शेड्यूलों को तैयार किया गया (दैनिक, साप्ताहिक, मासिक और वार्षिक)

Øशेड द्वारा प्रत्येक शेड्यूल के लिए जांच सूची तैयार की गई.

Øमिल राइट कर्मचारियों द्वारा शेड्यूलों को पूरा किया जाता है.

Øजंजीर, रस्सी, हुक तथा स्लिंग आदि का परीक्षण लालागुडा कर्मचारियों द्वारा आवधिक रूप से किया जाता है.

Øउचित मानीटरी के लिए पिछले परीक्षण की तारीख को मशीनों पर लिखा जाता है.

Øस्टीम बाइलर तथा सभी लोको एअर रिजर्वायरों का परीक्षण बाइलर निरीक्षक/ विजयवाडा द्वारा आवधिक रूप से किया जाता है.

****************




Source : दक्षिण मध्‍य रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 21-07-2016  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.