Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

नागरिक चार्टर

रेलगाड़ियां तथा समय

यात्री सेवाएं / भाड़ा जानकारी

सार्वजनिक सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें

ट्विटर पर गुंतकल
डिविशनल मैप
ट्विटर पर गुंटकाल डिवीजन
हमारे बारे में
फोटो गैलरी
स्वच्छ रेल स्वच्छ भारत
विभाग
टेलीफ़ोन निर्देशिका
मार्ग नक्शा
हमसे संपर्क करें
आर टी आई सूचना
स्टोर
संचालन
सामान्य प्रशासन
सुरक्षा
राजभाषा
लेखा
वाणिज्य
संरक्षा
विद्युत
कार्मिक
सिग्नल और दूरसंचार
सवारी व मालडिब्बा
चिकित्सा
सार्वजनिक सूचना
सार्वजनिक सूचना


 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

इंजीनियरी विभाग

 

1.0 प्रस्तावना :

 

वर्ष 1956 में गुंतकल मंडल दक्षिण रेलवे के एक भाग के रूप में गठित हुआ. और 02-10-1977 में इसे दक्षिण मध्य रेलवे में अंतरित किया गया.

 

गुंतकल मंडल कई विख्यात मंदिरों का निवास स्थान है जैसे कि तिरुपति में विश्व प्रसिद्ध श्री वेंकटेश्वर स्वामी, तिरुचानुर में पद्मावती मंदिर, श्रीकालहस्ती में श्री कालहस्तीश्वर मंदिर, माणिपाकम में वरसिद्धि विनायक मंदिर, कदिरि में श्री लक्ष्मीनरसिंह स्वामी मंदिर और मंत्रालयम के पास राधवेन्द्र स्वामी मठ विराजमान है.हालही में ताडिपत्रि स्टेशन भी एक महव्तपूर्ण दार्शनिक स्थान बन गया है जो कि इस स्टेशन से 35 कि.मी. की दूरी पर बेलुम गुफाएं पाए गए हैं.तथा इसका विकास हो रहा है.

 

इन पवित्र आशीशों के अलावा गुंतकल मंडल में खनिज, लौह अयस्क, बरैट्स, चूना पत्थर और प्राकृतिक पत्थरों से भरपूर है. उपर्युक्त वाणिज्यिक कार्यकलापों में वृद्धि हो रही है. औद्योगिक वृद्धि तेजी से बढ रही है और पोर्ट कार्यकलापों, माल यातायात में दिनों-दिन वृद्धि दर्ज हो रही है. गुंतकल मंडल यात्री और माल यातायात में हर साल लगातार तेजी से बडोत्तरी हो रही है.

 

दक्षिण मध्य रेलवे में, गुंतकल मंडल 1,307.07 रूट कि.मी. वाला सबसे प्रथम उच्चतर मंडल है और 1872.47 रेल पथ कि.मी. में दूसरा उच्चतर मंडल है. आर वी एन एल, निर्माण संगठन के द्वारा नए लाइन परियोजनाएं और लगातार दोहरीकरण के परिणामस्वरूप इसमें दिन-ब-दिन रेल पथ में वृद्धि हो रही है.

 

वर्ष 2010-11 के दौरान पाकाला-धर्मवरम के बीच का लाइन बडी लाइन में परिवर्तित होने के परिणामस्वरूप गुंतकल मंडल को संपूर्ण बडी लाइन मंडल के रूप में घोषित किया गया है. सभी लूप लाइनों को 30 कि.मी. प्र.घं. के रूप में फिट किया गया है. और पूर्ण रेल पथ को,पाकाला-धर्मवरम सेक्शन को छोड़कर सीसी+8+2टी के रूप में फिट किया गया है.2011 के दौरान वाडी-गुंतकल सेक्शन पर एस टी स्लीपर रेल पथ को पी क्यू आर एस में पूरा बदल दिया गया है. पूर्ण मेन लाइन रेलपथ को पी एस सी स्लीपर 60 कि.ग्रा/52 कि.ग्रा. रेल के रूप में घोषित की गई है. रेल पथ पर गुत्ती-रेणिगुंटा इकहरी लाइन में लगभग 70 जीएमटी और रायचूर-गुंतकल इकहरी लाइन सेक्शन में 60 जीएमटी की वहनक्षमता है.

 

2.0 भूगोल :

 

गुंतकल मंडल आंध्र प्रदेश,कार्नाटक और तमिलनाडु राज्‍यों में विस्तारित है. इसका विवरण निम्नप्रकार है.

 

राज्य

रूट कि.मी.

रेल पथ कि.मी.

आंध्र प्रदेश

1157.79

1574.71

कर्नाटक

142.42

284.84

तमिलनाडु

6.86

12.92

कुल :

1307.07

1872.47

 

 

 

 

 

3.0 आवृत्त जिलाएं :

 

आंध्र प्रदेश

अनंतपुर, कड़पा, कर्नूल, चित्तूर, नेल्लूर और महबूब नगर जिलाएं

कर्नाटक

गुलबर्गा, रायचूर, यादिगिर और बल्लारी जिलाएं

तमिलनाडु

वेल्लूर जिला

 

4.0 इंजीनियरी संगठन :

वरि.मंइंजी / समन्वयन

 

 

 

 

 

वरि.मंइंजी/दक्षिण

वरि.मंइंजी/सेन्ट्रल

 

 

मंइंजी/उत्तर

मंइंजी/पुल

 

 

 

 

 

 

 

समंइंजी/गुत्ती

समंइंजी/कड़पा

समंइंजी/रेणिगुंटा

समंइंजी/डोन

समंइंजी/पाकाला

समंइंजी/मदनपल्ले

 

 

समंइंजी/रायचूर

समंइंजी/गुंतकल(बला)

समंइंजी/अनंतपुर

समंइंजी/पुल

 

 

 

 

 

 

 

 

 

समंइंजी/पटरी

समंइंजी/वि कार्य

 

 

 

5.0 सेक्शन-वार रूट कि.मी.

सेक्शन

ग्रूप

रूट कि.मी.

वाड़ी - गुंतकल

बी

221.13

गुंतकल के पास बै-पास

बी

0.881

गुंतकल रेणिगुंटा

बी

309.50

रेणिगुंटा के पास बै-पास

बी

1.405

गुत्ती धर्मवरम

बी

90.60

गूडूर रेणिगुंटा तिरुपति

बी

92.51

गुंतकल - नंद्याल

बी

144.30

काटपाडी तिरुपति

बी

103.59

गुंतकल बल्लारी

बी

46.20

गुत्ती - पेंडेकल

डी

29.28

गुंतकल कल्लूर

40.26

धर्मवरम कल्लूर

227.42

कुल :

1307.07

 

 

 

 

6.0पुल

 

गुंतकल मंडल पर 3496 नं. के पुल है, इनमें से 08 पुल महत्वपूर्ण है, 242 पुल बड़ी और 3246 पुल छोटी है. इस मंडल की एकमात्र 9.15 मी. मेसनरी आर्क पुल विशेष है. इस मंडल पर 140 नं. के आर्क पुल है. मुख्य नदियां जैसे कृष्णा, तुंगभद्रा, पेन्नार, चित्रावति, चेय्येर, पापाग्नि इस मंडल से बहते हैं.

 

7.0 समपार फाटकें :

 

इस मंडल पर 438 समपार फाटक है.

चौकीदार सहित फाटकें

चौकीदार रहित फाटकें

कुल

इंजीनियरी

यातायात

कुल चौकीदार सहित फाटकें

अंतर पार्शित

गैर-अंतर पार्शित

कुल

अंतर पार्शित

गैर-अंतर पार्शित

कुल

57

100

157

85

--

85

242

196

438

 

 

इस मंडल में सभी चौकीदार रहित समपार फाटकों का निर्मूलन के लिए एक मास्टर योजना तैयार की गई है. इस योजना के अनुसार, पिछले 03 साल में 70 चौकीदार रहित समपार फाटकों को निकाल दिया गया है. मंडल में अब ऐसी योजना बनाई जा रही है कि शेष चौकीदार रहित समपार फाटकों को, चौकीदार सहित बनाकर भू-मार्ग, सीधा बंद करना, चौकी / रहित / सहित समपार फाटकों के पास लिंक मार्ग की व्यवस्था करवाकर समपार फाटकों के पास संरक्षा का स्तर बढ़ने की योजनाएं तैयार हो रही है.

 

 

 

 

** *

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 




Source : दक्षिण मध्‍य रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 17-07-2017  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.