Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

नागरिक चार्टर

रेलगाड़ियां तथा समय

यात्री सेवाएं / भाड़ा जानकारी

सार्वजनिक सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें

अनुरोध स्थानांतरण वरिष्ठता सूची
स्वच्छ रेल स्वच्छ भारत
ट्विटर पर सिकंदराबाद डिवीजन
फेसबुक पर सिकंदराबाद डिवीजन
समाचार और घोषणाएँ
आरटीआई सूचना
भंडार
हमारे बारे में
सामान्य प्रशासन
फोटो गैलरी
हम से संपर्क करें
लेखा विभाग
वाणिज्य
विद्युत
इंजीनियरी
EnHM
यांत्रिक
लोको शेड
चिकित्सा
परिचालन
कार्मिक विभाग
राजभाषा
संरक्षा
Security


 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
सिगनल व दूरसंचार

हमारे बारे में
फोटो गैलरी
सामान्य प्रशासन हम से संपर्क करें लेखा विभागवाणिज्यविद्युतइंजीनियरी
लोको शेड यांत्रिकचिकित्सापरिचालनकार्मिक विभागराजभाषासंरक्षासुरक्षासिगनल व दूरसंचार

भूमिका

सिगनल व दूरसंचार परिसंपत्तियों का प्रभावी अनुरक्षण करना दक्षिण मध्य रेलवे,सिकंदराबाद मंडल के सिगनल व दूरसंचार विभाग की जिम्मेदारी है.

सिकंदराबाद मंडल में एक लाख से अधिक सिगनल परिसंपत्तियां जैसे ब्लाक उपकरण, सिगनल यूनिट, पाइंट मशीन, रेल परिपथ, आईबी और आईपीएस आदि सहित 127 ब्लाक स्टेशन हैं. यह सिगनलिंग प्रणाली आवश्यक है, गाडियों का संरक्षित चालन सुनिश्चित करने के लिए संरक्षा कोटि के अंतर्गत आता है.

मंडल में दूरसंचार की भूमिका महत्वपूर्ण है और वह संरक्षा संचार, परिचालनिक संचार, प्रशासनिक संचार प्रणली तथा स्टेशन में यात्री सुख-सुविधाओं से संबंधित है. स्टेशनों पर उपलब्ध प्लैटफार्म घड़ी (एनालाग व डिजिटल), जन संबोधन प्रणाली (मैनुअल व माइक्रोप्रोसेसर आधारित), गाड़ी सूचना बोर्ड, सवारीडिब्बा मार्गदर्शन संकेत बोर्ड आदि यात्री सुख-सुविधाएं हैं. एक नज़र में सवारीडिब्बा मार्गदर्शन संकेत बोर्ड तथा टॅच स्क्रीन के साथ मंडल गाड़ी पूछताछ प्रणाली यात्रियों को विभिन्न प्राकर की सूचना प्रदान करता है. सुरक्षा लाइन में आईबी आधारित निगरानी प्रणाली महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. इसके अतिरिक्त, विभिन्न डेटा नेटवर्क जैसे पीआरएस (यात्री आरक्षण प्रणाली), यूटीएस (अनारक्षित टिकटिंग प्रणाली) तथा एफओआईएस (मालभाड़ा प्रचालन सूचना प्रणाली) का रख-रखावइस मंडल द्वारा किया जाता है.

संगठनः

वरिष्ठ मंडल सिगनल व दूरसंचार इंजीनियर इस मंडल के सिगनल व दूरसंचार शाखा के प्रभारी हैं. वे अपने अधीनस्थ संस्थापनों के सही कार्यचालन तथा अनुरक्षण के लिए मंडल रेल प्रबंधक के प्रति उत्तरदायी हैं.

वे मुख्य सिगनल व दूरसंचार इंजीनियर के तकनीकी नियंत्रणाधीन हैं और तकनीकी मामलों के लिए उनके प्रति उत्तरदायी हैं. उनकी सहायता के लिए विभिन्न ग्रेडों के अधिकारियों की टीम कार्यरत है.



प्रमुख गतिविधियाः


1. हैदाराबाद पीआरएस में, आसान व सुविधाजनक आरक्षण टिकट बुकिंग के लिए यात्रियों की सुविधा हेतु पीआरएस आरक्षण काउंटरों के लिए  इलैक्ट्रानिक टोकन सिस्टम की व्यवस्था की गई है.


2.गाड़ियों के आगमन व प्रस्थान, प्लैटफार्म नंबर तथा कोच की स्थिति की आसानी से पहचान के लिए यात्रियों को मार्गदर्शन देने हेतु महबूबाबाद स्टेशन में प्लैटफार्म नंबर 1 व 2 पर ट्रू कलर एलईडी आधारित सवारीडिब्बा मार्गदर्शन संकेत बोर्ड /गाड़ी सूचना बोर्ड और सवारीडिब्बा मार्गदर्शन बोर्ड एक नज़र में आरंभ किया गया. दैनिक परिचालन के लिए वाणिज्य विभाग को आपरेटिंग कनसोल यूनिट सौंपा गया.


3. तांडूर स्टेशन में , सही समय जानने के लिए यात्रियों की सुविधा हेतु 24 घंटे फार्मेट एलईडी आधारित जीपीएस प्लैटफार्म से युक्त 300मिमी के 3 घड़ियां उपलब्ध हैं.




4. आसाधारण घटना/दुर्घटना स्थान पर बेहतर बेतार संपर्क की सुविधा के लिए सिकंदराबाद, काजीपेट और बेल्लमपल्ली एआरटी में 3 डब्लयूएलएल एक्सचेंज सायमन आरंभ किए गए.


5.8 स्टेशनों यथाः सिकंदराबाद, हैदराबाद, काजीपेट,वरंगल, खम्मम, पेद्दपल्ली, बेल्लमपल्ली , सिरपुर कागजनगर और रामगुंडम में यात्री और पूछताछ लिपिक के बीच बेहतर संपर्क के लिए फेस टु फेस पूछताछ सिस्टम आरंभ की गई.


6. बेल्लमपल्ली गुड्स केबिन में, गाड़ी परिचालन के दौरान संरक्षा में सुधार लाने के लिए उप मुसिवदूइंजी/पी/ सिकं द्वारा मोटराइज्ड पाइंट, समूचे यार्ड में रेलपरिपथ, आईपीएस और डेटालागर की व्यवस्था करते हुए घिसे हुए तथा पुराने लीवर फ्रेमों के स्थान पर सालिड स्टेट अंतर्पाशन (माइक्रोलाक-2) आरंभ किया गया.



7.पापटपल्ली में, पुराने व अधिक पुराने पैनलों को बदला गया और सिगनलिंग व्यवस्था की विश्वसनीयता में सुधार लाने के लिए नए पैनल केबल के लिए रिले कक्ष की व्यवस्था की गई.





7.बीदर डाक घर में बीएसएनएल चैनल पर बीदर स्टेशन और बीदर डाक घर के बीच पीआरएस आरंभ किया गया.

8. सवारीडिब्बों की स्थिति के संबंध में यात्रियों को मार्गदर्शन देने हेतु तांडूर स्टेशन में प्लैटफार्म नंबर 1 व 2 पर 47 नग एलईडी आधारित सवारीडिब्बा संकेत बोर्ड लगाए गए.

9. मेसर्स रेल टेल कार्पोरेशन आफ इंडिया लिमिटेड द्वारा विकाराबाद-परली सेक्शन (245 किमी) में ओएफसी लगाया गया. कोहिर, मेटलकुंटा, भालकी, हेर व घाटनंदूर स्टेशनों में नियंत्रण परिपथों को ओएफसी सिस्टम में अंतरित किया गया. इन स्टेशनों पर रेलवे आटो टेलीफोन (कोहिर 81067), मेटलकुंटा (81006), भालकी (81070), हेर (81002) और घाटनंदूर (81071) की व्यवस्था की गई.

10. संचालन भवन में केंद्रीकृत पूछताछ प्रणाली में 4 लाइन हंटिंग तथा एनटीईएस टर्मिनल सहित बीएसएनएल टेलीफोन नंबर 27829999 की व्यवस्था आरंभ की गई.

11. पेद्दपल्ली स्टेशन में पूछताछ काउंटर पर नए बीएसएनएल टेलीफोन नंबर 08728-222031 की व्यवस्था की गई है.

12. विकाराबाद-परली सेक्शन में बीदर व हलबर्गा के बीच नए सिरे से खोले गए खानापुर स्टेशन में स्टैंड बाई के रूप में डब्ल्यूएनएल फोन नंबर 08480-220 की व्यवस्था की गईहै.

13. काजीपेट में रेल परिपथ के बगल में एअरटेल सिगनल स्ट्रेंथ को सुधारने पर कार्य योजना बनाने के लिए एअरटेल अधिकारियों के साथ मंसिवदूइंजी/काजीपेट द्वाराएक समन्वयन बैठक आयोजित की गई.

14. 11 स्टेशनों पर अर्थात बेल्लमपल्ली, केसमुद्रम, बोनकालु, येलगूरु, जम्मिकुंटा, घटकेसर, लालागुडा, हफीजपेट, मनतट्टी, विकाराबाद और कोहिर में सिगनलिंग प्रणाली की विश्वसनीयता में सुधार करते हुए अनुरशक्षण में कमियों को ठीक करने के लिए निर्देशित अनुरक्षण किया गया.

15. 8 स्टेशनों पर अर्थात विहिरगांव- 02, माणिकगढ़- 02, बेल्लमपल्ली -04, रामगुंडम- 09, डोर्नकल-02, काजीपेट/आरआरआई- 01, काजीपेट ईव एफ केबिन -04 , जम्मिकुंटा-01 और घटकेसर -02 संरक्षा में सुधार लाने के लिए 27 नग घिसे हुए टंग रलों को बदला गया.

16.खम्मम, काजीपेट, वरंगल, रामगुंडम और मंचिर्याल 5 स्टेशनों में गाड़ी संकेत तथा सवारीडिब्बा मार्गदर्शन/ संकेत बोर्ड प्रणाली कनसोल को वाणिज्य कर्मचारियों द्वारा प्रचालन के लिए उप स्टेशन अधीक्षक कक्ष से बुकिंग कर्यालय में शिफ्ट किया गया. यह काम काफी समय से लंबित था और पिछले 6 महीनों से उपर्युक्त स्टेशनों पर टीआईबी/सीआईबी का प्रचालन नहीं हो रहा था. अन्य स्टेशनों से कर्मचारियों तथा सामग्री को एकत्रित करते हुए इस कार्य को विभाग द्वारा पूरा किया गया.

17.नेकोंडा, केसमुद्रम और गार्ला इन 3 स्टेशनों पर, नेटवर्क विश्वसनीयता को अपग्रेड करने तथा भविष्य में मार्ग विभिन्नता चैनलों को अधिक संख्या में जोड़ने के लिए यूटीएस/पीआरएस नेटवर्क के लिए वर्तमान 4 पोर्ट रूटरों के स्थान पर 8 पोर्ट रूटरों की व्यवस्था की गई.

18.विकाराबाद , तांडूर, बीदर, परली , भुवनगिरि, वरंगल, रामगुंडम ,मंचिर्याल, भद्राचलम और खम्मम इन 10 स्टेशनों में यात्रियों द्वारा सवारीडिब्बा नंबर की आसानी से पहचान के लिए सवारीडिब्बा संकेत बोर्ड पर गाड़ी नंबर और सवारीडिब्बा नंबर प्रदर्शन अवधि समय को क्रमशः 8 व 12 सेकंड किया गया.

19.सिरपुर कागजनगर स्टेशन में, डेटा चैनल लिंक खराबी के मामले में यूटीएस काउंटरों के निरंतर कार्यचालन की सुविधा हेतु यूटीएस नेटवर्क के लिए थिन क्लायंट की व्यवस्था की गई.

20.निचले सड़क पुल को ध्यान में रखते हुए धारूर स्टेशन में, समपार फाटक सं.16 को बंद किया गया और इस प्रकार श्रमशक्ति में बचत हुई.

21.बीदर और हलबर्गा स्टेशनों के बीच समपार फाटक सं.40 पर समपार फाटक उपयोक्ताओं के लिए संरक्षा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के लिए पीए सिस्टम और एलसीडी प्रोजेक्टर की व्यवस्था की गई.

22.परली स्टेशन में, गाड़ी सूचना बोर्ड और सवारीडिब्बा मार्गदर्शन संकेत बोर्ड के आपरेटिंग कनसोल यूनिट को बुकिंग कार्यालय में शिफ्ट किया गया.

23.सिकंदराबाद, हैदराबाद, काजीपेट, वरंगल, खम्मम, रामगुंडम, मंचिर्याल, सिरपुर कागजनगर, विकाराबाद और तांडूर इन 10 स्टेशनों में 14.07.2011 को तेलंगाना क्षेत्र में तेलंगाना संयुक्त कार्य समिति द्वारा आयोजित रेल रोको आंदोलन को ध्यान में रखते हुए हेल्प लाइन काउंटरों में बीएसएनएल और रेलवे टेलीफोन की व्यवस्था की गई.

24.परली स्टेशन में, यात्रियों और पूछताछ लिपिकों के बीच बेहतर संपर्क के लिए फेस टु फेस पूछताछ प्रणाली की व्यवस्था की गई.

25.लिंगमपल्ली स्टेशन में, गाड़ी उद्घोषणाओं में श्रव्य स्तर को सुधारने के लिए पीए सिस्टम कनसोल रैक को स्थापित किया या और पुनःवायरिंग की गई.

26.लिंगमपल्ली स्टेशन में, यात्रियों के लिए पीए उद्घोषणा में श्रव्य स्तर को सुधारने के लिए प्लैटफार्म नंबर 1, 2 व 3 पर वर्तमान पीए सिस्टम नेटवर्क में 6 नग 30 डब्ल्यू हार्न स्पीकर उपलब्ध कराए गए.

27.बेगमपेट स्टेशन पर, एसी वोल्टता में घट-बढ़की मामले में प्रदर्शन बोर्डों की खराबी को दूर करने के लिए प्लैटफार्म नंबर 1 व 2 पर उपलब्ध गाड़ी सूचना बोर्ड और सवारीडिब्बा मार्गदर्शन बोर्ड के लिए 3 केवीए स्टेबिलाइजरों को जोड़ गया.

28.केसमुद्रम, नेकोंडा और महबूबाबाबद स्टेशनों में यूटीएस नेटवर्क के लिए थिन क्लायंट की व्यवस्था की गई.

29.सदाशिवपेट, मारपल्ली, जहीराबाद, बीदर, खानापुर, हलबर्गा, कलगुपुर, कमालनगर, उदगीर, लातुर रोड, जनवल और पानगांव इन 12 स्टेशनों में वर्तमान डेटा लागर नेटवर्क के साथ मिलाने के लिए वर्तमान 6 क्वैड केबल पर ओएफसी नेटवर्क में जोड़ा गया. इसके साथ, विकाराबाद-परली सेक्शन (चाकुर व पानगांव को छोड़कर) में 19 स्टेशनों में से 17 स्टेशनों को सिकंदराबाद में मानीटर करने के लिए नेटवर्क के साथ जोड़ा गया.

30.माणिकगढ़-गढ़चंदूर सेक्शन में राजुरा, पंढ़रपावनी, मराठावाडा सीमेंट वर्क्स और गढ़चंदूर इन 4 स्टेशनों पर सिकंदराबाद में मानीटर करने हेतु नेटवर्क के साथ मिलाने के लिए वर्तमान 6 क्वैड केबल पर डेटा लागर को जोडा गया तथा ओएफसी नेटवर्क में जोड़ा गया.

31.सिकंदराबाद में मानीटर करने हेतु काजीपेट नए माल केबिन में डेटा लागर को आरंभ किया गया तथा नेटवर्क के साथ जोड़ा गया.

32.घटकेसर स्टेशन में, डेटा पोस्टिंग की गति को बढ़ाने के लिए एससीएस डेटा लागर पर ओएफसी में टी-पोर्ट नेटवर्क कनेक्विविटी की व्यवस्था की गई.

नवीयन

1.सिगनल यूनिटों के अंदर बरसात के पानी जाने से करंट रेग्युलेटर को क्षति पहुंच सकता है, इसे रोकने के लिए यूनिट के ऊपर और पिछले भाग को ढ़कते हुए एक रेक्जीन कवर की व्यवस्था की गई. दिनांक 05.04.11 को मधिरा में डाउन मेन स्टार्टर सिगनल के लिए इसकी व्यवस्था की गई.

2.अंतर्राष्ट्रीय समपार जागरूकता दिवसको ध्यान में रखते हुए सड़क उपयोक्ताओं की जागरूकता में सुधार लाने के लिए 40 लाख बल्क संक्षिप्त संदेश (एसएमएस)भेजे गए.

3.सड़कउपयोक्ताओं की संरक्षा जागरूकता में सुधार लाने के लिए समपार जागरूकताके उपलक्ष्य में दिनांक 26.07.11 से 24.08.11 तक 17 लाख बल्क संक्षिप्त संदेश (एसएमएस) भेजे गए.




Source : दक्षिण मध्‍य रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 07-10-2020  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.