Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

नागरिक चार्टर

रेलगाड़ियां तथा समय

यात्री सेवाएं / भाड़ा जानकारी

सार्वजनिक सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें

मुख्य विशेषताएं
संगठन चार्ट
प्रमाणन
प्रमुख उपलब्धियां
प्रदर्शन
लेखा
स्वचालन, नवोन्मेष और पहल
विद्युत विभाग
हेरिटेज संरक्षण
अभियांत्रिकी विभाग
ऊर्जा संरक्षण
आरटीआई सूचना - स्टाफ पारिश्रमिक
Basic Training Centre
सूचना का अधिकार
मॉल डिब्बा कारखाना गुंटूपल्ली
डीजल लोको शेड मौलाली
सवारी डिब्बा मरम्मत कारखाना / तिरुपति
डीजल लोको शेड गुंतकल
डीजल लोको शेड गूटी
डीजल लोको शेड काजीपेट
डीजल लोको शेड विजयवाड़ा
इलेक्ट्रिक लोको शेड काजीपेट
इलेक्ट्रिक लोको शेड लालागुडा
एमु कार शेड मौला-अली
MEMU Car Shed RJY
सिगनल व दूरसंचार कारखाना
इंजीनियरिंग कार्यशाला लालागुडा


 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
सवारी डिब्बा कारखाना, लालागुडा


हमारे बारे में

                     

लल्लागुडा में स्थित दमरे के सवारी डिब्बा कारखाना की स्थापना, 1893 में निजाम राज्य रेलवे (एनएसआर) के लोकोमोटिव, सवारी डिब्बा और वैगन कारखाना के रूप में      की गई थी. हैदराबाद सरकार ने 1930 में रेलवे का प्रत्यक्ष नियंत्रण संभाला और इसका नाम निजाम गारंटीकृत राज्य रेलवे (एनजीएसआर) के रूप में बदला गया.

लालागुडा कारखाना कांप्लेक्स, नगर द्वय में स्थित आधुनिक औद्योगिक वास्तुकला के एक प्राचीन सजीव उदाहरणों में से एक है. यह राज्य में प्रमुख उद्योग की शुरुआत का एक संकेतक है. कारखाने के शुभारंभ के समय से लेकर कुछ संरचनाएं, आज भी उपयोग में हैं. यह क्षेत्र हमें न केवल एक शताब्दी से अधिक के औद्योगिक प्रगति की झलक प्रदान करता है बल्कि बीते युग के विरासतों का भंडार भी है. रेल के इतिहास से संबंधित मरम्मत किए गए वैगन, डिब्बे और विभिन्न प्रकार की कलाकृतियों को संरक्षित कर इन्हें यहां प्रदर्शनार्थ रखा गया हैं. इनमें से उल्लेखनीय है कि यहां पर सावधानी पूर्वक 1886 के विशिष्ट डिब्बों को संरक्षित रखा गया है.

दक्षिण मध्य रेलवे का गठन 2 अक्टूबर 1966 को हुआ था तथा लालागुडा कारखाना इस जोन का एक प्रमुख कारखाना बना. वर्ष 1973 तक यह एमजी / बीजी रोलिंग स्टॉक के लिए एकमात्र कारखाना रहा. भाप इंजन के चरणबद्ध तरीके से हटने के परिणामस्वरूप, कारखाने में सभी प्रकार के बीजी डिब्बों का पीओएच किया जाने लगा, इसलिए वर्ष 1997 में इसका नाम "सवारी डिब्बा कारखाना" के रूप में बदला गया है.

स्थान: कैरिज वर्कशॉप, लालगुडा, सिकंदराबाद, दक्षिण मध्य रेलवे। (Map Location)

                   

आई एम एस नीति:

                                                               





Source : दक्षिण मध्‍य रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 28-07-2021  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.